आईसेक्ट विश्वविद्यालय समाचार

(13/Jan/2016)

वैश्विक तापन और पर्यावरण प्रदूषण विषय पर कार्यक्रम 

इनवायरमेंटल प्लानिंग एण्ड कोऑर्डिनेशन ऑर्गेनाइजेशन (एप्को), कांफ्रेंस पार्टनर नर्मदा समग्र नेशनल और कांफ्रेंस, सेंटर फॉर कम्युनिटी इकोनामिक्स एण्ड डेवलपमेंट कंसंल्टेंट्स सोसायटी जयपुर के संयुक्त तत्वावधान में आयोजित नेशनल कांफ्रेंस ‘ग्लोबल वार्मिंग एण्ड क्लाइमेट चेंज’ पर अपने सुझाव और उसके निदान हेतु बतौर विशेषज्ञ वक्ता डॉ. षंभूरतन अवस्थी को आमंत्रित किया गया था। डॉ. अवस्थी ने जलवायु परिवर्तन को रोकने के लिए ग्रामीण और शहरी क्षेत्रों में ‘ग्रीन दृष्टिकोण’ अपनाने पर बल दिया। उन्होंने अपने सुझावों में कहा कि ग्रामीण तथा शहरी क्षेत्रों में स्थानीय संसाधनों का उपयोग कर पानी और ऊर्जा में आत्मनिर्भर बनाया जाना चाहिए जिससे कि स्थानीय लोगों को रोजगार के अवसर प्राप्त हो सकेंगे और गांवों से युवाओं के पलायन पर रोक भी लग सकेगी। ज्ञात हो कि डॉ. अवस्थी सेंटर फॉर रिन्यूएबल आईसेक्ट के निदेषक हैं। उक्त कार्यक्रम मध्यप्रदेष विधानसभा में संपन्न हुआ।

इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग छात्रों का औद्योगिक भ्रमण 

​आईसेक्ट विश्वविद्यालय के इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग के पांचवे सेमेस्टर में अध्ययनरत 30 छात्रों का दल गोविंदपुरा स्थित मध्य प्रदेश मध्य क्षेत्र विद्युत वितरण को. लिमिटेड में आद्योगिक भ्रमण पर गया था। विद्युत वितरण प्रशिक्षण केन्द्र के श्री रवि वर्मा, श्री एस एल बम्होरे और श्री गंगेले ने छात्रों को सब स्टेशन, डाटा सेंटर, मीटर टेस्टिंग स्टेशन, ट्रांसफार्मर रिपेयरिंग यूनिट आदि का भ्रमण कराने के साथ-साथ एक्सपर्ट ने बिजली व्यवस्था की मूल अवधारणा को भी बखूबी समझाया और भविष्य में इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग का कितना महत्व होगा यह भी बताया। इस औद्योगिक भ्रमण पर गये छात्र किताबी ज्ञान के साथ-साथ व्यावहारिक ज्ञान मिलने से अत्यंत प्रसन्न थे। विश्वविद्यालय के डॉ. शंभू रतन अवस्थी, डायरेक्टर, सेंटर फॉर रेनेवेबल एनर्जी ने छात्रों के इस औद्योगिक भ्रमण में पूर्ण सहयोग करने हेतु श्री अशोक श्रीवास्तव, जनरल मैनेजर, मध्य प्रदेश मध्य क्षेत्र विद्युत वितरण कंपनी एवं श्री प्रकाश गुप्ता का आभार व्यक्त किया।

उद्यमिता पर दो दिवसीय तकनीकी प्रशिक्षण

उद्यमिता पर दो दिवसीय तकनीकी प्रशिक्षण का आयोजन हुआ जिसमें बीएसएसएस और आईसेक्ट विश्वविद्यालय के विद्यार्थियों ने भाग लिये। प्रशिक्षक के तौर पर मेकइनटर्नडाटइन से आये हुए योगेन्द्र झा ने छात्रों को तकनीकी प्रशिक्षण देते हुए बताया कि बिजनेस क्या है, बिजनेस के फीचर्स क्या होने चाहिए, मार्केट में डिमांड क्या है और उनकी मार्केटिंग कैसी होनी चाहिए साथ ही ये भी बताया कि आखिर एक तरफ टाटा नैनो प्रोजेक्ट के फेल होने का कारण क्या था दूसरी तरफ फ्लिपकार्ट, ओला कैब और रेड बस जैसी नई कंपनीज का ग्राफ तेजी से क्यूं बढ़ रहा है जिससे कि उद्योग जगत में हलचल मची हुई है। इस अवसर पर क्विज प्रतियोगिता आयोजित हुई। आईसेक्ट विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. विजयकांत वर्मा, प्रो. वाइस चांसलर अमिताभ सक्सेना एवं रजिस्ट्रार डॉ. विजय सिंह ने चयनित छात्रों को बधाई व शुभकामनाएं दीं।

आईसेक्ट विश्वविद्यालय के एनएसएस छात्रों ने मदर टेरेसा आश्र्रम में मनाया बाल दिवस

आईसेक्ट विश्वविद्यालय के राष्ट्रीय सेवा योजना (एनएसएस) इकाई के छात्रों ने मदर टेरेसा आश्रम में रह रहे 40 अनाथ बच्चों के साथ मिलकर हषोल्लास पूर्वक बाल दिवस मनाया। इस अवसर पर विश्वविद्यालय की एनएसएस कार्यक्रम अधिकारी डॉ. जया शर्मा के साथ एनएसएस छात्रों का दल नेहरु नगर स्थित मदर टेरेसा आश्रम में गया और वहाँ पर रह रहे बच्चों के लिए बाल गीत गाया एवं उन्हें उत्साहित किया साथ ही आश्रम की सिस्टर से बात कर बच्चों की बीमारियों के बारे में जाना एवं उनके स्वस्थ्य जीवन की कामना की और उन्हें आश्वासन दिया कि वे अपने विश्वविद्यालय के सभी शिक्षकों एवं स्वयं सेवकों से निवेदन करेंगे कि वे आगे बढ़ कर इन बच्चों की हर संभव मदद करें साथ ही बच्चों के अच्छे स्वास्थ्य के लिए फल एवं स्वास्थ्यवर्द्धक पेय पदार्थ (हेल्थ ड्रिंक) गिफ्ट स्वरुप दिया। कार्यक्रम के अंत में सभी बच्चों के हाथों में गिफ्ट था, चेहरों पर मीठी सी मुस्कान और अपनों का स्नेह व ढेर सारा प्यार।