कॅरियर

(16/Dec/2014)

इंटलिजेंसी प्रॉपर्टी राइट

 
संजय गोस्वामी
 
बौद्धिक संपदा अधिकार (आईपीआर) का मूल कार्य लोग के अधिकारों की रक्षा करने के साथ कानून से संबंधित है। इसका उद्देश्य आर्थिक विकास को बढ़ावा देने, नई प्रौद्योगिकियों, कलात्मक अभिव्यक्ति और आविष्कारों को प्रोत्साहित करने के लिए महत्वपूर्ण है। बौद्धिक संपदा अधिकारों से व्यक्तियों के रचनात्मक काम की रक्षा की जा जाती है और वे अपने श्रम का लाभ प्राप्त करते हैं। बौद्धिक संपदा अधिकार के क्षेत्र में रोजगार के अधिकतम अवसर हैं। उत्पादन के लिए नई तकनीक विकसित करने, प्रक्रियाओं को और अधिक कुशल बनाने के लिए, हमारे आसपास की दुनिया में सौंदर्य-सामग्री, कपड़ा, खाना, दवा बनाने के लिए, पेटेंट एजेंट की मांग संबंधित कंपनी के लिए अनिवार्य है। कॉपीराइट, पेटेंट और ट्रेडमार्क: तीन मुख्य रूप में बौद्धिक संपदा की रक्षा करने के लिए हैं।
कॉपीराइट - अर्थपूर्ण कला लेखन और विज्ञान की रक्षा करना ही कॉपीराइट है। यह सार्वजनिक रूप से प्रदर्शित करने और व्युत्पन्न कार्य बनाने, नियोक्ता अथवा मालिकों के लिए अपने काम को पुनः पेश करने के लिए विशेष अधिकार देने और रक्षा करने के लिए है। नियोक्ता को आर्थिक लाभ और उनकी अनुमति के बिना ऐसा करने से दूसरों को प्रतिबंधित के अधिकार दिए गए हैं। यह लेखन- चित्रलेखन, सांकेतिक शब्दों में बदलने के पुष्टीकरण की अभिव्यक्ति की रक्षा करने के लिए महत्वपूर्ण है।
पेटेंट - निर्माण या विक्रय या समय की एक निश्चित अवधि के लिए अन्य लोगों द्वारा इस्तेमाल किया जाने के लिए विशेष अधिकार पेटेंट हैै। इसका मूल उद्देष्य आविष्कार की रक्षा करना है। पेटेंट तीन अलग-अलग प्रकार के होते हैं:
उपयोगिता पेटेंट: इसके अंतर्गत रसायनों, मशीनों, और प्रौद्योगिकी की रक्षा करने के लिए कानून है।
 
डिजाइन पेटेंट - एक निर्मित वस्तु प्रौद्योगिकी द्वारा अनोखा तरीका (नैनो तकनीक, माइक्रो इलेक्टॉनिक्स ) से डिजाइन काम की रक्षा करने के लिए कानून है।
संयंत्र पेटेंट - इन पेटेंट में संयंत्र की किस्मों, मैकेनिकल, इलेक्ट्रिकल, जैव प्रौद्योगिकी की रक्षा करने के लिए कानून है। पेटेंट कानूनों के तहत पेटेंट में एकीकृत सर्किट के लेआउट डिजाइन, औद्योगिक डिजाइन, भौगोलिक संकेतक, वैष्विक उत्पाद कानून, डीवीडी, सॉफ्टवेयर के window vista आदि की रक्षा करने के लिए कानून है। साथ ही आईटी, फार्मा, बायोटेक, ऊर्जा, निर्माण, कपड़ा, फिल्मों, संगीत कंपनियों के अनुप्रयोगों का मसौदा तैयार करने के लिए आईपीआर विशेषज्ञों की बढ़ती मांग है अन्य भूमिका में आईपी मूल्यांकन, पेटेंट भूनिर्माण, व्यावसायीकरण विश्लेषण, प्रौद्योगिकी उपखंड की रॉयल्टी और बाजार गतिशीलता निर्धारण करने के लिए है। बौद्धिक संपदा अन्वेषक, पेटेंट और ट्रेडमार्क कार्यालय द्वारा पेटेंट के लिए मंजूरी देते हैं। जटिल और समय लेने वाली यह प्रक्रिया उचित मूल कार्य और अपने आविष्कार की रक्षा को सुनिश्चित करने लिए लाभदायक है।
ट्रेडमार्क - ट्रेडमार्क उत्पादों और कंपनियों के नाम और पहचान के निशान की रक्षा करना होती है। ट्रेडमार्क का उद्देश्य यह है कि आसान उपभोक्ताओं को एक दूसरे से प्रयोग के प्ररूप के प्रति भेद करने के लिए बना है। ट्रेडमार्क एक व्यापार अपनी कंपनी की पहचान करने के लिए एक निश्चित चिह्न का उपयोग शुरू करती है जो एक बार स्वचालित रूप से ग्रहण करती हैं, और सरकार के साथ अपने प्रतीक या नाम दाखिल कर बिना प्रतीक टीएम (ज्तंकम उंता) का उपयोग करती है।

बौद्धिक संपदा अधिकारों की रक्षा के लिए सख्त कानून है। बौद्धिक संपदा अधिकारों का उल्लंघन करने पर एक बौद्धिक संपदा अनुभवी अदालत में मामला निश्चित रूप में पेश करने के लिए महत्वपूर्ण होगा। यदि किसी भी फर्म ने बौद्धिक संपदा अधिकारों का उल्लंघन किया है, तो एक अनुभवी बौद्धिक संपदा अन्वेषक अथवा वकील बौद्धिक संपदा अधिकारों के नुकसान के लिए रॉयल्टी के लिए मुकदमा कर सकते हैं। ऐसे व्यक्ति से आप अनुमति के बिना अपने काम का उपयोग करने के लिए मुआवज़े के अलावा कानूनी शुल्क भुगतान कंपनी के व्यापार रहस्य की रक्षा हेतु एक योजना को लागू  करने के लिए- आप एक नए और बढ़ते व्यापार का हिस्सा बनते हैं, इस नए क्षेत्र की उचित तकनीक का ज्ञान रोजगार के निरंतर सफलता के लिए आवश्यक है। बौद्धिक संपदा आपके प्रतिस्पर्धी का वास्तविक परीक्षण करती हैं। बौद्धिक संपदा अधिकार आज एक प्रमुख क्षेत्र के रूप में बहुत तेजी से उभरा है। पांच साल की अवधि में, 1997-2001, संयुक्त राज्य अमेरिका में पेटेंट और ट्रेडमार्क कार्यालय (यूएसपीटीओ) ने एक लाख पेटेंट प्रदान किया गया। ये संख्या स्पष्ट रूप से  कंपनियों में पेटेंट गतिविधि का एक बड़ा सौदा दर्शाती हैं। बौद्धिक संपदा अधिकार के पाठ्यक्रम में पारंपरिक आईपी पाठ्यक्रमों के साथ ही दवा, आईटी, मैकेनिकल, केमिकल और बायोटेक्नॉलॉजी पेटेंट अभ्यास, पेटेंट कानून और कॉपीराइट कानून के रूप में अधिक उन्नत प्रशिक्षण वाले क्षेत्र शामिल हैं।  पेटेंट प्रशिक्षण के व्यावहारिक, व्यापारिक और कानूनी पहलुओं पर ध्यान केंद्रित करके, अंतरराष्ट्रीय पाठ्यक्रम के परिचय हेतु प्रदान करने के लिए अंतरराष्ट्रीय शिक्षाविदों, आईपी वकीलों, पेटेंट एजेंट और बौद्धिक संपदा संकाय के शिक्षाविदों द्वारा दिया जाता है। विज्ञान और इंजीनियरिंग या संबंधित धाराओं में पृष्ठभूमि के साथ छात्रों के लिए बनाए गए कार्यक्रम के प्रतिभागियों को पेटेंट चिकित्सकों और वकीलों से पेटेंट का व्यवहारिक ज्ञान सीखना होता है। विभिन्न विष्वविद्यालयों द्वारा आयोजित बौद्धिक संपदा अधिकार में दो साल विज्ञान के मास्टर (एम एससी) के पाठ्यक्रम में पेटेंट प्रणाली, कॉपीराइट, ट्रेडमार्क प्रणाली के क्षेत्र में विशेषज्ञों की बढ़ती जरूरतों की मांग को पूरा करने के लिए डिजाइन किया गया है- औद्योगिक डिजाइन और भू संकेत, डब्ल्यूआईपीओ, गैट, विष्व व्यापार संगठन, यात्राएं, आईपीआर नवाचार, प्रौद्योगिकी और विज्ञान। गैट और विष्व व्यापार संगठन के प्रोटोकॉल, कृषि आईपीआर, संयंत्र किस्मों, जैव विविधता, औषधि वृक्षारोपण और नैनो के अलावा जैव प्रौद्योगिकी और जैव चिकित्सा अभियांत्रिकी के उपयोग के अनुकूलन के लिए वैज्ञानिक अनुसंधान के क्षेत्र में पेशेवरों की बढ़ती मांग है।
एमएससी बौद्धिक संपदा अधिकार के पाठ्यक्रम में निम्नलिखित विषय है। एमएससी (प्च्त्) किसी भी विषय के स्नातक छात्र द्वारा किया जाता है। इसकी अवधि दो वर्ष है। प्रथम वर्ष के विषय में बौद्धिक संपदा अधिकार और अपने सामान्य व्यवस्था पेटेंट प्रणाली, कानून और नीति कॉपीराइट और पड़ोसी अधिकार कानून ट्रेडमार्क सिस्टम, कानून और नीति औद्योगिक डिजाइन तथा भू-संकेत षामिल हैं जबकि दूसरे वर्ष के विषय में बौद्धिक संपदा अधिकार संरक्षण: वैष्विक और स्थानीय परिदृश्य डब्ल्यूआईपीओ, विष्व व्यापार संगठन, गैट, यात्राओं और आईपीआर बौद्धिक संपदा अधिकार, नवाचार, विज्ञान और प्रौद्योगिकी आदि सम्मिलित हैं। बौद्धिक संपदा अधिकार और अन्य संबंधित मुद्दों मास्टर की थीसिस - आईपी संबंधित वैज्ञानिक संगठन, फोरेंसिक विज्ञान प्रयोगशाला में।
एक आईपी व्यावसायिक को आईपी संबंधित वैज्ञानिक कार्य, फोरेंसिक विज्ञान और कानूनी दोनों अवधारणाओं से अच्छी तरह वाकिफ होना चाहिए। आईपी पेशेवर पेटेंट में सभी पेटेंट और गैर पेटेंट साहित्य, पेटेंट भरने, पेटेंट आवेदन प्रारूपण, पेटेंट कार्यालय में पेटेंट अभियोग, अदालत में व्यापार चिह्न का आयोजन खोजों, प्रबंध आईपी पोर्टफोलियो आदि शामिल हैं। पेटेंट आवेदन के लिए प्रारूपण तकनीकी और कौशल की जरूरत होता है इसलिए एक आईपीआर विशेषज्ञ के विज्ञान या इंजीनियरिंग में डिग्री होनी चाहिए और उसके बाद कानून में स्स्ठ डिग्री। 21 साल के उम्र से ऊपर के किसी मान्यता प्राप्त विष्वविद्यालय से एक साइंस इंजीनियरिंग या प्रौद्योगिकी डिग्री वाले उम्मीदवारों पेटेंट कार्यालय, भारत सरकार द्वारा किए गए पेटेंट एजेंट परीक्षा के लिए के लिए पात्र हैं। बौद्धिक संपदा शिक्षा, अनुसंधान और सार्वजनिक आउटरीच (प्च्म्त्च्व्) की योजना के तहत मानव संसाधन विकास मंत्रालय अब तक विकास और बौद्धिक संपदा अधिकार शिक्षा, अनुसंधान और प्रशिक्षण के विकास के लिए अपनी क्षमता पर विभिन्न विष्वविद्यालयों और संस्थानों में 18 आईपीआर संस्थानों का गठन किया है। कुछ कॉलेज में पोस्ट ग्रेजुएट डिप्लोमा कोर्स भी हैं।
 

संस्थान

- भारतीय प्रबंध संस्थान (आईआईएम), अहमदाबाद
- भारतीय प्रबंध संस्थान (आईआईएम), कोलकाता
- भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (आईआईटी), कानपुर
- भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (आईआईटी), खड़गपुर
- एनएएलएसएआर विष्वविद्यालय, हैदराबाद
- राष्ट्रीय विज्ञान संस्थान, बंगलोर
- पुणे विष्वविद्यालय, पुणे
- कोचीन विष्वविद्यालय (सीयूएसएटी), कोचीन
- एमिटी लॉ स्कूल (ए.एल.एस.), नई दिल्ली
- सिम्बायोसिस अंतर्राष्ट्रीय विष्वविद्यालय, गुजरात विष्वविद्यालय, अहमदाबाद
- बनारस हिंदू विष्वविद्यालय, बनारस
- मैसूर विष्वविद्यालय, मैसूर
- भारतीय विधि संस्थान, दिल्ली
- उस्मानिया विष्वविद्यालय, हैदराबाद
- चाणक्य राष्ट्रीय विष्वविद्यालय, पटना, बिहार
- जैव सूचना विज्ञान संस्थान, नोएडा
- जेएनयू विष्वविद्यालय, नई दिल्ली
- जामिया हमदर्द  विष्वविद्यालय, नई दिल्ली
- राष्ट्रीय दूरस्थ शिक्षा संसाधन केन्द्र इग्नू, नई दिल्ली
-  साइबर लॉ पुणे एशियन स्कूल, पुणे
- डॉ. अम्बेडकर विधि विष्वविद्यालय, आगरा
- बौद्धिक संपदा ग्लोबल इंस्टिट्यूट और अंतरराष्ट्रीय पेटेंट संस्थान, नई दिल्ली
- ग्लोबल ओपन विष्वविद्यालय, नागालैंड
- आशा प्रबंधन और प्रौद्योगिकी मैनेजमेन्ट संस्थान, पानीपत
- गुजरात फोरेंसिक विज्ञान विष्वविद्यालय, गांधी नगर
- महात्मा ज्योति राव फूले विष्वविद्यालय, जयपुर
- मोहनलाल सुखरिया विष्वविद्यालय, उदयपुर
- सागा प्रबंधन संस्थान, केरल
- संजीवनी पैरा मेडिकल साइंस संस्थान., हरियाणा
- धर्मस्थाला-मंजुनाठेस्वारा जी कॉलेज, मंगलौर
- स्वामी विवेकानंद सुरभी विष्वविद्यालय, मेरठ
- स्वास्तिक कम्प्यूटर और शोध संस्थान, अलवर
- नवोदय शिक्षा संस्थान, नई दिल्ली
- राष्ट्रीय विज्ञान संचार और विज्ञान रिसोर्स संस्थान, नई दिल्ली
- आईसेक्ट एवं आईसेक्ट विष्वविद्यालय भोपाल, म.प्र.
 
यमुना जी/13 अणुशक्ति नगर, मुंबई-94
goswamisanjay80@yahoo.in