कॅरियर

(18/Mar/2019)

पॉलीमर इंजीनियरिंग

संजय गोस्वामी
 
 
पॉलीमर को हिंदी में बहुलक कहते हैं पॉलिमर को समझने के लिएए हमें सबसे पहले मोनोमर को जानने की जरूरत हैए जो एक अणु है जिसमें कम से कम दो अन्य मोनोमर्स के साथ जुड़ने की क्षमता होती है। पॉलिमराइजेशन दो या दो से अधिक सरल अणुओं का मिलन है पॉलिमराइजेशन की डिग्री का आधार मोनोमर की कार्यक्षमता है मोनोमर्स द्वारा बनाई गई बांडों की संख्या बहुलक के परिणामस्वरूप रासायनिक संरचना को निर्धारित करती है। यदि केवल दो अन्य अणुओं के साथ एक मोनोमर बांड होता हैए तो परिणाम एक चेन जैसी संरचना है। यदि यह तीन या अधिक अणुओं के साथ बांड होता है तो तीन आयामीए क्रॉस.लिंक्ड स्ट्रक्चर बना सकते हैं जुड़ने की प्रक्रिया को पॉलिमराइजेशन कहा जाता हैए जिसमें इलेक्ट्रॉनों के जोड़े को साझा करके एक ही या विभिन्न प्रकार के दो अलग.अलग अणु होते हैं। जैसे दब्भ्2त्रब्भ्2कृकृण्झयण्ब्भ्2ण्ब्भ्2ण्ब्भ्2द्धदकृदृझयण्ब्भ्2ण्ब्भ्ण्द्ध वहुलक या पालीमर बहुत अधिक अणु मात्रा वाला कार्बनिक यौगिक होता है। बांड या समूहों की संख्या जो यह निर्धारित करेगा कि क्या मोनोमर मोनो होगा.ए द्वि.ए त्रि.ए या पाली यह सरल अणुओं जिन्हें मोनोमर कहा जाता है असंतृप्त हाइड्रोकार्बन  के लाखों छोटे अणुओं जिन्हें एकाकी अणु या एकक कहते हैंए के जुड़ने से बहुलक का निर्माण होता है। अणुओं के इस प्रकार के जोड़ को बहुलकीकरण कहते हैं। बहुलक का मुख्य उपयोग नाम. पॉलिथीन एथिलीनए प्लास्टिक के निर्माण में पॉलिस्टरीन स्टायरीनए अण्डे के कार्टनएगर्म पेय पात्रए आदि के निर्माण में पॉलिविनाइल मोनोविनाइल क्लोराइड एपीण्वीण्सीण्पाइपए हैण्ड बैग क्लोराइड इत्यादि के निर्माण में पॉलीटेट्रा. टेट्राफ्लोरोएथिलीन नॉन.स्टिक बर्तन के फ्लूरो एथलीन निर्माण में या टेफ्लॉन नोवोलक फिनॉर्लंफार्मल्डिहाइड रेडियो कैबिनेट तथा कैमरों के आवरण रेजिन निर्माण में पॉली विनाइल विनाइल एसिटेट लैटेक्स पेन्ट तथा एसिटेट आसंजक के निर्माण में पॉलीकार्बोनेट बुलेटप्रूफ जैकेट इत्यादि के निर्माण में होता है। पॉलीमेराइजेशन के फलस्वरूप बहुत अधिक रासायनिक सामग्री बनता है।पॉलिमर को आमतौर पर निम्न आधार पर वर्गीकृत किया जाता है .1ण् भौतिक और रासायनिक संरचनाएँ। 2ण्पॉलिमर तैयारी के तरीके 3ण्भौतिक गुण 4ण् पॉलिमर का अनुप्रयोग। पॉलिमर को भौतिक गुणों के अनुसार निम्नलिखित रूप में वर्गीकृत किया जा सकता है .
1. थर्माप्लास्टिक 2. थर्मो सेटिंग 3. इलास्टोमर 4. फाइबर;रेशेद्। इसमें कार्य करने वाले प्रोफेशनल्स को ष्पॉलिमर इंजीनियरष् कहलाता है।
 
अवसर 
इसमें रोजगार के असीमित अवसर हैं। वर्तमान में कई बहुराष्ट्रीय कंपनियां ;रिलायंसए एसएबीआईसीए ड्यूपॉन्टए डॉवए इत्यादिद्ध और अनुसंधान प्रयोगशालाएं ;जेएपीएलए एनसीएलए सीपीआरआईए एनएमएल इत्यादिद्ध इस क्षेत्र में अनुसंधान काम कर रही हैं। भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थानए रुड़की तथा आईआईटी में भी पॉलीमर इंजीनियरिंग के क्षेत्र में बहुत सारे शोध कार्य चल रहे हैं। कई प्रोफेसरए शोध विद्वानए अंडरग्रेड पॉलिमर के क्षेत्र में अपना शोध कार्य कर रहे हैं। इसलिएए यदि आप रसायन शास्त्र पसंद करते हैं और शोध में रुचि रखते हैं तो आप इस पॉलिमर  इंजीनियरिंग के क्षेत्र में अच्छा करियर बना सकते हैं। मानव निर्मित पॉलिमर अक्सर सामान्यतः प्लास्टिक के रूप में संदर्भित होते हैंय वे कई घरों और औद्योगिक उपयोगों के साथ विभिन्न रूपों में आकार और ढाला जा सकता है अधिकांश सिंथेटिक पॉलिमर पेट्रोलियम तेल से प्राप्त होते हैंए और विभिन्न प्रकारों में नायलॉनए पॉलीथीनए पॉलिएस्टरए रेयानए टेफ्लॉन और एपॉक्सी शामिल होते हैं। प्लास्टिक या रबड़ की वस्तुएं जो आपको हर रोज मिलती हैंए वे सब प्रकार के बहुलक हैं। इसलिये बहुलक हमारे जीवन के लिए जरुरी है। बहुलक से रोजमर्रा के जीवन में इस्तेमाल हेतु कई वस्तुओं बनते हैं जैसे प्लास्टिक के कंटेनरए नायलॉन उत्पादए रबर टायर और कई अन्य बहुलक सामग्री। पॉलीइथिलीन के विभिन्न प्रकार हैं क्ष्यब्भ्2ण्ब्भ्2द्ध दद्व  जैसे कि कम घनत्वए मध्यम घनत्व और उच्च घनत्व पॉलीथीन ;संक्षिप्त रूप से स्क्च्म्ए डक्च्म् और भ्क्च्म्द्ध बनाया जाता है। पॉलिमर  प्लास्टिकए फाइबरए  रेक्सिन ;कृत्रिमद्ध और विस्फोटक जैसी सामग्रियों के रूप में अनुप्रयोग होता है 
 
संभावना 
पॉलिमर पदार्थों की बढ़ती मांग के चलते इसमें रोजगार की संभावना तेजी से बढ़ी है। सामान्यतः पॉलिमर इंजीनियरिंग को रसायनिक  इंजीनियरिंग की एक शाखा के रूप में जाना जाता हैए जिसके अंतर्गत पॉलिमर यौगिकए पॉलिमर मिश्रित सामग्री कार्बन ब्लैकए कैल्शियम कार्बोनेटए टाइटेनियमऑक्साइडए नैनो क्लेए ग्लास फाइबरए ऑर्गेनिक फिलर्सए नैनोफिलर्सए प्रोसेसिंग एड्सए फ्लेम रिटार्डेंट्सए इत्यादि पॉलिमर पदार्थों एवं केमिकल्स को किसी प्रयोग की चीज के लिये बनाया जाता हैए जबकि मॉडर्न पॉलिमर इंजीनियरिंग कच्चे पॉलिमर पदार्थों को बनाने के साथ.साथ नैनोटेक्नॉलॉजी और बायोमेडिकल तकनीक पर भी बल देता है। इसमें पॉलिमर पदार्थों को विभिन्न प्रक्रियाओं के तहत आवश्यक पदार्थों में तब्दील किया जाता है। इसमें नए मेटेरियल एवं तकनीकों की खोज भी की जाती है। इंजीनियरिंग की ही शाखा होने के कारण इसका कार्यस्वरूप काफी कुछ केमिस्ट्री एवं फिजिक्स से मिलता.जुलता है। पॉलिमर इंजीनियर का कार्य केवल पॉलिमर पदार्थों के डिजाइन एवं मेंटेनेंस तक ही सीमित नहीं होताए बल्कि कई परिस्थितियों में उन्हें कॉस्ट कटिंग एवं प्रोडक्शन कार्यों को भी करना पड़ता है। बेहतरीन कम्युनिकेशन स्किल्स का होना भी जरूरी है पॉलिमर विज्ञान में बीण्एससी करने के बाद आप केमिस्टए इंडस्ट्रियल रिसर्च साइंटिस्टए मैटेरियल टेक्नॉलॉजिस्टए क्वालिटी कंट्रोलरए प्रॉडक्शन आफिसर और सेफ्टी हेल्थ एंड इन्वाइरॅनमेंट स्पेशलिस्ट जैसे पदों पर काम कर सकते हैं। पॉलिमर टेक्नॉलॉजिस्ट की मांग फार्मास्यूटिकलए एग्रोकेमिकलए पेट्रोकेमिकलए प्लास्टिक मैन्यूफैक्चरिंगए केमिकल मैन्यूफैक्चरिंगए फूड प्रोसेसिंगए पेंट मैन्यूफैक्च. रिंगए टैक्सटाइल्सए फोरेंसिक और सिरेमिक्स जैसी इंडस्ट्रीज में है। यह हमेशा एक बेहतर विकल्प है। आप मेसाचुसेट्सए टेक्सासए डेलावेयरए मिनियोस्टाए केयू लियूवनए आक्रॉन इत्यादि जैसे शीर्ष विश्वविद्यालयों से पी.एचण्डी। कर सकते हैं। 
 
क्षेत्र 
बीई या बीटेक पॉलिमर  इंजीनियरिंग में मुख्यत में मुख्य रूप से पॉलिमर सामग्री और यौगिकए मोल्ड और डाई डिजाइनए पॉलिमर प्रसंस्करण संचालनए पॉलिमर रिएक्शन इंजीनियरिंगए सतह कोटिंग प्रौद्योगिकीए कम्पोजिट प्रौद्योगिकी इंडस्ट्रियल केमिस्ट्रीए पॉलीमर टेक्नॉलॉजीए पॉलीमर प्रोसेसिंगए पॉलीमर टेस्टिंगए पॉलीमर सिंथेसिस आदि विषय हैं तथा एम ई स्तर के पाठ्यक्रम में मुख्य रूप से तरल क्रिस्टलीय पॉलिमर का  परिचयए और इतिहासए तरल क्रिस्टलीय के प्रकार ;स्ब्द्ध चरणए तरल के प्रकारए क्रिस्टलीय पॉलिमरए अनिसोट्रोपिक गुणए एल सी मिश्रणों और कंपोजिटए एलसी इलास्टोमर्सए तरल क्रिस्टलीय पॉलिमर के रियोलॉजीए एल सी पॉलिमर के अनुप्रयोग. ऑप्टिकलए उच्च शक्ति फाइबरए एमईएमएस आदि की जानकारी दी जाती है। उपयुक्त आवश्यकता के साथए बहुलक इंजीनियरों बहुलक विनिर्माण और उपयोगकर्ता उद्योग का हिस्सा बन सकते हैं। उन्हें कई निजी और सार्वजनिक क्षेत्र की पॉलिमर कंपनियों में पॉलिमर इंजीनियरए उत्पादन इंजीनियरए पर्यवेक्षकए गुणवत्ता नियंत्रण निरीक्षकए मोल्ड डिजाइनर और उत्पादन योजनाकार के रूप में नियोजित किया जाता है। वे देश के विभिन्न पॉलिमर कंपनीए पेट्रोलियम और प्राकृतिक गैस मंत्रालयए तेल और प्राकृतिक गैस आयोग ;ओएनजीसीद्धए तेल प्रयोगशालाओंए पेट्रोकेमिकल्स इंजीनियरिंग संयंत्रए पेट्रोलियम संस्थानए पेट्रोलियम संरक्षण अनुसंधान संघए में पॉलिमर इंजीनियर या बहुलक वैज्ञानिक के रूप में काम कर सकते हैंए और ऐसे अन्य पॉलिमर इंजीनियरिंग संगठनध्संस्थानों में  प्रौद्योगिकी. विद या प्रोफेसर के रूप में नौकरी पढ़ाने और काम करने का विकल्प भी चुन सकते हैं। पॉलिमर इंजीनियर को प्रसंस्करणए गुणवत्ता नियंत्रणए तकनीकी सहायता और बिक्रीए डिजाइन और मोल्डए प्रशिक्षणए प्रबंधन और शोध और विकास संबंधित गतिविधियों के निर्माण में नौकरी के अवसर मिलते हैं।
 
प्लेसमेंट  
मुख्य रूप से इन क्षेत्रों ;रबड़ए फाइबरए चमड़ेए पेट्रोकेमिकल्सए लुगदी और कागजए प्लास्टिकए टायर इत्यादिद्ध के उद्योग पॉलिमर इंजीनियरों में रुचि रखते हैं। रिलायंसए एसएबीआईसीए ड्यूपॉन्टए अपोलोए एमआरएफए एक्सोनमोबिलए सोलवे केमिकल्सए जीई प्लास्टिक्सए जेके टायर्सए डॉव आदि जैसी कंपनियां पॉलिमर इंजीनियरों को  लेती हैं।
 
प्रवेश परीक्षा 
पॉलिमर इंजीनियरिंग में बैचलर ऑफ इंजीनियरिंग की अवधि चार साल है इसमें प्रवेश लेने के लिए आईआईटी जेईई या अन्य प्रवेश परीक्षाओं में बैठना अनिवार्य है। इसमें कुछ परीक्षा ऑल इंडिया अथवा कुछ स्टेट लेवल पर आयोजित की जाती हैं। इनमें उत्तीर्ण होने के पश्चात ही प्रमुख कोर्सों में प्रवेश मिल पाता है। 
 
योग्यता 
पॉलिमर इंजीनियरिंग में ग्रेजुएशन करने के लिए फिजिक्सए कैमिस्ट्री और मैथ्स विषयों में के साथ 12वीं पास करना जरूरी है। जेईईध्सीईटी के माध्यम से मेरिट सूची के आधार पर विभिन्न इंजीनियरिंग कॉलेज में पॉलिमर इंजीनियरिंग में ग्रेजुएशन का कोर्स  ज्वाइन किया जाता है। अगर अभ्यर्थी के पास पॉलिमरध्प्लास्टिक इंजीनियरिंग में डिप्लोमा योग्यता है तो वह पॉलिमर इंजीनियरिंग के ग्रेजुएशन कोर्स में दाखिला ले सकते हैं। 
 
कुछ प्रमुख कोर्स 
  • डिप्लोमा इन पॉलिमर इंजीनियरिंग 
  • बैचलर ऑफ इंजीनियरिंग इन पॉलिमर इंजीनियरिंग स बैचलर ऑफ इंजीनियरिंग ;पेट्रोकेमिकल्स एंड पॉलिमरिक सामग्रीद्ध 
  • बैचलर ऑफ पॉलिमर साइंस स बैचलर ऑफ टेक्नॉलॉजी इन पॉलिमर  इंजीनियरिंग
  • मास्टर ऑफ इंजीनियरिंग इन पॉलिमर  इंजीनियरिंग स मास्टर ऑफ साइंस इन पॉलिमर इंजीनियिरग
  • मास्टर ऑफ टेक्नॉलॉजी इन पॉलिमर इंजीनियरिंग
  • इंट्रिग्रेटेड एमटेक इन पॉलिमर  इंजीनियरिंग
  • पोस्ट डिप्लोमा इन पॉलिमर  टेक्नॉलॉजी
मुख्य विषय
पॉलिमर इंजीनियरिंग में कई विषयों के अध्ययन के लिए मैकेनिकलए केमिकल और इलेक्ट्रॉनिक्स विषय का ज्ञान आवश्यक है पॉलिमर से संबंधित विषय हैं कुछ उप विषय हैंः पॉलिमर और पॉलिमर कंपोजिटए औद्योगिक प्रबंधनए डिजाइन और विश्लेषण  पॉलिमर  प्रसंस्करण. उन्नत पॉलिमर विज्ञानए कंपाउंडिंग प्रैक्टिसए मिक्सिंग टाइपए सॉलिड एडिटिव्सए मॉर्फोलॉजीए कंपाउंडिंग यौगिकों का परिचयए प्रकार और विशेषताएं.बहुलक मिश्रणए इंटरलासियल एजेंटए बहुलक पिघल में बहुलक नैनोकणों का फैलाव मास्टर बैचए रंग सिद्धांतए  पॉलिमर यौगिक पॉलिमर मिश्रित सामग्रीए भराव और सुदृढीकरण। मिक्सिंग मशीनरी एंड डिवाइसेस कार्बन ब्लैकए कैल्शियम कार्बोनेटए टाइटेनियम ऑक्साइडए नैनो क्लेए ग्लास फाइबरए ऑर्गेनिक फिलर्सए नैनोफिलर्सए प्रोसेसिंग एड्सए फ्लेम रिटार्डेंट्सए इत्यादिए मल्टीकम्पोनेंटए यौगिकए पॉलियोलेफिनए पॉलीस्टाइनिन और स्टाइरीन कोपोलिमर के यौगिकए कंपाउंडिंग अर्थशास्त्र आदि विषय हैए थर्मोसेटिंग एक्रिलिक्सए ऐक्रेलिक पॉलिमर और सह.बहुलकए विभिन्न तकनीकों का संश्लेषण। थर्मोसेटिंग एक्रिलिक्स के संरचना संपत्ति संबंध अनुप्रयोगए जैसे एनारोबिक चिपकने वालाए रेजिनए आदि अल्कीड रेजिन हैएपॉलिमर यौगिक के मिक्सिंग और कंपाउंडिंग एप्लिकेशन के लियेए प्लास्टिकए कंपाउंडिंगए ग्लास फाइबर कंपाउंडिंगए नैनो.कम्पोजिट हैए पॉलिमर के रीसाइक्लिंग अनुप्रयोग के लिए उपयोग किए जाने वाले एडिटिव्सए मिश्रित यौगिकए पॉलिमरए इलास्टोमेर कंपाउंडिंग  एनआरए एसबीआरए बीआरए आईआरए ईपीडीएम आदि हैं। मोनोमरए कंपाउंडिंगए सामग्री के लिए असंतृप्त पॉलिएस्टर अन्य पॉलिमरए केबल और प्रोफाइल एक्सट्रूजन के लिए कंपाउंडिंगए कंपाउंडिंग मशीनरी और डिवाइसेस इस्तेमाल किया जाता है यह गुणवत्ता के लिए महत्वपूर्ण है पॉलिमर इंजीनियरिंग में केमिकल इंजीनियरिंग ऑपरेशंस रासायनिक प्रतिक्रिया इंजीनियरिंग थर्माप्लास्टिक्स पॉलिमर टेक्नॉलॉजी थर्मोसेट पॉलिमर की तकनीक आदि मुख्य विषय हंय पॉलिमर इंजीनियरिंग में कंडक्टिंग पॉलिमर इलेक्ट्रॉनिक्स पर आधारित है।
कंडक्टिंग पॉलिमर में कंडक्टर का सिद्धांतए अर्ध चालक और पॉलिमर का संचालनए बैंड सिद्धांतए बहुलक की आवश्यकताएंए कंडक्टर के रूप में काम करने के लिएए पॉलिमर के संचालन के प्रकार . आंतरिक और बाह्यए बहुलक के डोपिंग पॉलिमरए अनुप्रयोगों और हाल के अग्रिमों के संचालनए संश्लेषणए प्रसंस्करण और परीक्षण .इलेक्ट्रोल्यूमिनिसेंस जंग अवरोधए माइक्रो. इलेक्ट्रॉनिकए झिल्लीए सेंसरए आदि की जानकारी दी जाती है। 
 
मांग 
पॉलिमर इंजीनियरिंग में कपड़ाए एलक्रोकैमोमेकेनिकल डिवाइसए कोटिंग ईप्लांट डिजाइनए पेट्रोलियम रिफाइनए फर्टिलाइजर टेक्नॉलॉजीए पेट्रोकेमिकल्सए सिंथेटिक फाइबर्सए प्रोसेसिंग ऑफ फूड एंड एग्रीकल्चरल प्रोडक्ट्सए रबड़ और प्लास्टिक जैसी इंडस्ट्रीज में पेशेवरों की मांग बनी हुई है। रबड़ और प्लास्टिक दोनों पॉलिमर के प्रकार हैं।
 
आय 
एक फ्रेशर पॉलिमर इंजीनियर के तौर पर आपकी सैलरी 30.40 हजार रुपए होगी। कुछ अनुभव के बाद आपकी सैलरी 50.80 हजार रुपए हो सकती है।
 
प्रमुख संस्थान 
  • भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थानए मुंबई
  • भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान ;आईआईटी, नई दिल्ली
  • बिड़ला इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नॉलॉजी, मेसरा, रांची 
  • दिल्ली विश्वविद्यालय एनई दिल्ली
  • मद्रास विश्वविद्यालय, चेन्नई 
  • संत लोंगोवाल इंस्टीट्यूट ऑफ इंजीनियरिंग एंड टेक्नॉलॉजीए संगरूर, पंजाब 
  • कोचीन विश्वविद्यालय विज्ञान और प्रौद्योगिकी सीयूएसएटी, कोच्चि 
  • महाराष्ट्र प्रौद्योगिकी संस्थान ;एमआईटी पुणे 
  • राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी संस्थानए कालीकट 
  • दिल्ली कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंगए नई दिल्ली 
  • हिंदुस्तान इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नॉलॉजी एंड साइंस, मैसूर 
  • श्री जयचमारजेन्द्र कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग, मैसूर
  • एसएसई श्री शिवाजी एजुकेशन सोसाइटी कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग एंड टेक्नॉलॉजी, अकोला, महाराष्ट्र
  • यूनिवर्सिटी कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंगए थोडुपुझा, केरल 
  • वीआरएस और वाईआरएन कॉलेज ऑफ टेक्नॉलॉजी, तेल प्रौद्योगिकी विभाग, चिराला, आंध्र प्रदेश।
 
goswamisanjay80@gmail.com